पूरी दुनियां के साथ-साथ पाकिस्तान में भी कोरोना वायरस ने अपना आतंक मचा रखा है। पूरी दुनियां में पाकिस्तान पहले से ही अपनी खुरापाती और गैरजिम्मेदाराना हरकतों के लिए प्रसिद्ध है। सबके बीच एक चौंकाने वाली खबर सामने आ रही है जिसके बाद से एक बार फिर इमरान खान सरकार का घटिया चहरा पूरी दुनियां के सामने आ रहा है। हाल में सामने आया है कि लॉकडाउन के बीच पाकिस्तान में हिंदुओं को राशन देने से मना किया जा रहा है। आपको बता दें कि ये घटना महामारी से बेहद प्रभावित सिंध प्रांत के कराची शहर की बतायी जा रही है।

ये भी पढ़िये: LOCKDOWN उत्तराखण्ड: घर जाने के लिए निकले करीब 43 हजार लोग रास्ते में फंसे

कोरोना संकट को देखते हुए पाकिस्तान में मुसलमानों को तो राशन और एनी जरूरी सामान दिया जा रहा है लेकिन हिंदुओं को नहीं दिया जा रहा है। हिंदुओं को बताया गया कि यह राशन केवल मुस्लिमों के लिए है। इससे हिंदुओं में काफी रोष पाकिस्तान के अन्दर फ़ैल चुका है। सिंध सरकार ने आदेश दिया है कि लॉकडाउन को देखते हुए दिहाड़ी कामगारों और मजदूरों को स्‍थानीय एनजीओ और प्रशासन की ओर से राशन दिया जाए। मानवाधिकार कार्यकर्ताओं के अनुसार, सरकारी आदेश की धज्जियां उड़ाते हुए प्रशासन हिंदुओं से कह रहा है कि वे राशन के हकदार नहीं हैं।

पाकिस्तान के एक हिंदू स्थानीय नागरिक का कहना है कि, ‘लॉकडाउन के दौरान अधिकारी हमारी मदद नहीं कर रहे हैं, हमें राशन भी नहीं दिया जा रहा है और इसके पीछे जो कारण बताया जा रहा है वह ये कि हम अल्पसंख्यक समुदाय का हिस्सा हैं।’

ये भी पढ़िये: बड़ी खबर: दिल्ली के निजामुद्दीन के मस्जिद में मिले कोरोना के 200 संदिग्ध, 100 विदेशी नागरिक

मोदी से गुहार- राजस्थान के रास्ते मदद भेजें

राजनीतिक कार्यकर्ता डॉ. अमजद अयूब मिर्जा ने कहा है कि कराची शहर और सिंध प्रांत के अलग-अलग इलाकों में रहने वाले हिंदुओं के सामने खाने-पीने के सामान का गंभीर संकट खड़ा हो चुका है। वे भारत सरकार से इस समय मदद की गुहार लगा रहे हैं। उनकी मांग है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राजस्थान के रास्ते सिंध के हिंदुओं के लिए राशन और अन्य जरूरी सामान भेजें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here