Home उत्तराखंड उत्तराखंड के महिम वर्मा ने छोड़ा BCCI के उपाध्यक्ष का पद, अब...

उत्तराखंड के महिम वर्मा ने छोड़ा BCCI के उपाध्यक्ष का पद, अब करेंगे ये काम

75
0

उत्तराखंड के रहने वाले और भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के उपाध्यक्ष महिम वर्मा ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। अब तक मिली जानकारी के अनुसार बीसीसीआई उनके इस्तीफे पर आधिकारिक रूप से तब फैसला लेगा जब बोर्ड का नियमित कामकाज मुंबई स्थित मुख्यालय में शुरू होगा। इस मामले की जानकारी रखने वाले सूत्रों ने कहा कि वर्मा ने अपना इस्तीफा बोर्ड को भेज दिया है। आपको बता दें महिम वर्मा क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ उत्तराखंड (सीएयू) के सचिव भी रह चुके हैं।

यह भी पढें: 2 अप्रैल विशेष: धोनी का वो छक्का जो हर क्रिकेटप्रेमी के दिल में अपनी अमिट छाप छोड़ चुका है

महिम वर्मा ने उत्तरासंघ क्रिकेट संघ का सचिव बनने के बाद भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) के उपाध्यक्ष का पद छोड़ दिया है। महिम वर्मा ने बताया कि यह महज औपचारिकता ही थी, चूंकि उनकी टीम पिछले महीने ही राज्य में चुनाव जीती थी। महिम वर्मा ने कहा कि मुझे अपने राज्य संघ की भी देखरेख करनी है, जिसका संचालन अभी तक अच्छे से नहीं हो पा रहा था। मैंने सीईओ राहुल जोहरी को इस्तीफा दे दिया है। मुझे यकीन है कि इसे स्वीकार कर लिया जाएगा।

यह भी पढें: प्रधानमंत्री मोदी के देश के संबोधन की ये हैं बड़ी बातें, 3 मई तक बड़ा भारत में लॉकडाउन

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि बीसीसीआई संविधान एक व्यक्ति को एक ही समय पर राष्ट्रीय और प्रांतीय स्तर पर दो पदों पर रहने की अनुमति नहीं देता है। वर्मा ने कहा ,‘मैंने बोर्ड सचिव जय शाह को पहले की बता दिया था कि यदि मैं प्रदेश संघ का प्रभार नहीं लेता तो वहां काम सुचारु रूप से नहीं चल पाता और इसीलिये मैंने चुनाव लड़ा था।

READ  उत्तराखंड में फिर टूटा अब तक का रिकॉर्ड, आज आए 7700 से ज्यादा मामले..127 लोगों की मौत

यह भी पढें: उत्तराखंड से बड़ी खबर: जेल में बंद एक कैदी ने दूसरे कैदी की कर दी हत्या

महिम वर्मा उत्तराखंड तकनीकी विश्वविद्यालय में कार्यरत रहे हैं। नौकरी के साथ उनकी क्रिकेट गतिविधियों उनकी पृष्ठभूमि शिक्षा के क्षेत्र से रही है। महिम वर्मा के पिता पीसी वर्मा सीडीए एयरफोर्स में कार्यरत रहे। वे सेवा के दौरान भी क्रिकेट से जुड़े रहे। पिछले 40 वर्षों से उन्होंने क्रिकेट को प्रोत्साहन देने के लिए काम करना शुरू किया। उनकी ओर से गोल्ड कप के रूप में सबसे बड़ा एवं सफल क्रिकेट टूर्नामेंट का पिछले 37 वर्षों से आयोजन होता आया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here