Home उत्तराखंड उत्तराखंड के चमोली में दिखा ‘चमत्कार’, सैलाब में बहा मंदिर…पर मूर्ति और...

उत्तराखंड के चमोली में दिखा ‘चमत्कार’, सैलाब में बहा मंदिर…पर मूर्ति और चांदी के छतर सुरक्षित

2132
0

7 फरवरी 2021, ये तारीख उत्तराखंड के साथ-साथ देश शायद ही भूल पाए। ये वो तारीख है जिस दिन उत्तराखंड के चमोली में ग्लेशियर टूटने की वजह से 200 से ज्यादा जिंदगियां काल के गाल में समा गईं। हजारों करोड़ों रुपये का नुकसान हो गया। अचानक आई इस आपदा में मानो चमोली स्थित रैणी गांव से लेकर तपोवन तक का पूरा नक्शा ही बदल कर रख दिया। आगे पढ़ें: 

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड से बड़ी खबर, 12 राज्यों से आने वाले लोगों को क्वारंटाइन होना पड़ेगा

इसी आपदा के दौरान रैणी गांव के निकट काली माता का मंदिर भी आपदा में बह गया था। उसी काली माता के मंदिर के निकट से माता भगवती की मूर्ति को आपदा स्थल से स्थानीय ग्रामीणों ने सकुशल बरामद कर लिया है। आपको बता दे कि, आपदा में काली माता मंदिर के बहने के साथ- साथ उनकी मूर्ति और मंदिर में रखे समान का पता नहीं चल पा रहा था। लिहाज माता की मूर्ति ढूंढने के लिए ग्रामीणों ने छानबीन की जिस दौरान माता भगवती की मूर्ति और चांदी के छतर मिले। हालांकि कुछ लोगों ने इसे भगवान के प्रति आस्था का नाम दिया लेकिन एक बार फिर से आपदा के ऊपर आस्था भारी पड़ी है। इसका जीता जागता उदाहरण है रैणी गांव में घटी ये घटना।

यह भी पढ़ें:चमोली गढ़वाल: पैसों के लालच में पिता ने आठवीं में पढने वाली लड़की को बेचा, देखिए वीडियो…

READ  पौड़ी गढ़वाल: कोरोना मरीजों को नहीं मिल रहे बेड...फर्श पर बिछे है गद्दे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here