Home उत्तराखंड उत्तराखण्ड: शहीद बेटे का चेहरा देखते ही बेहोश हुई माँ, पार्थिव शरीर...

उत्तराखण्ड: शहीद बेटे का चेहरा देखते ही बेहोश हुई माँ, पार्थिव शरीर को एकटक निहारती रही बहन

1763
0

शहीद देव बहादुर का शव का ताबूत जैसे ही उत्तराखंड के ऊधमसिंह नगर स्थिति घर के सामने पहुंचा तो मां, बहन और अन्य परिजन की चीखें निकल गई। मां लक्ष्मी देवी बार-बार वहां मौजूद सेना के अधिकारियों और अन्य लोगों से एक बार बेटे का चेहरा दिखाने की मिन्नतें कर रही थी और बार-बार यही कह रही थीं कि एक बार मुझे मेरे बेटे का चेहरा दिखा दो। सेना के अधिकारियों से पूछ रही थी कि मेरे बेटे ने कहां पर पैर रख दिया था, जहां से उसकी जान चली गई। बारूदी सुरंग की चपेट में आने से पार्थिव बुरी तरह से जल गया था। मां की मिन्नतों के बाद उन्हें हल्का सा चेहरा दिखाया गया तो बेहोश हो गईं वहीँ शहीद के बहन गीता अपने भाई के पार्थिव शरीर को एकटक निहार रही थी।

यह भी पढ़ें: कोरोना अपडेट: उत्तराखंड में आज मिले रिकॉर्ड 451 कोरोना पॉजिटिव मरीज, 5300 पहुंचा आंकड़ा

कैबिनेट मंत्री यशपाल आर्य ने भी गौरीकला पहुंचकर शहीद को श्रद्धांजलि अर्पित करने के साथ ही परिजनों को ढांढस बंधाया। उन्होंने सरकार की ओर से शहीद परिवार को दस लाख रुपये की आर्थिक मदद देने के साथ ही एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने की घोषणा की। मंत्री आर्य ने बताया कि शहीद परिवार के साथ सरकार खड़ी है। जो भी प्रस्ताव शहीद के संबंध में आएंगे, उनको पूरा किया जाएगा। बुधवार सुबह निर्धारित समय सात बजे से दो घंटे देरी से सेना के ट्रक में सेना के अधिकारी शहीद देव बहादुर का पार्थिव शरीर लेकर उसके आवास गोरीकलां पहुंचे तो शहीद की पार्थिव देह की प्रतीक्षा कर रहे पिता शेर बहादु, मां लक्ष्मी, बहन गीता, भाई अनीता और भाई अनुज की नम आंखों से अश्रुधारा बह निकली।

यह भी पढ़ें: उत्तराखण्ड: लॉकडाउन में घर आये थे दिव्यांश और लतिका, दर्दनाक हादसे में दफ़न हो गयी दो मासूम जिंदगियां

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here