Home उत्तराखंड उत्तराखंड के सपूतों के बिना अधूरी है कारगिल की वीरगाथा, देवभूमि के...

उत्तराखंड के सपूतों के बिना अधूरी है कारगिल की वीरगाथा, देवभूमि के 75 बेटे हुये थे शहीद

9
0

उत्तराखंड को वीरों की भूमि यूं ही नहीं कहा जाता। राज्य का सैन्य इतिहास वीरता और पराक्रम के असंख्य किस्से खुद में समेटे हुए है। यहा के लोकगीतों में शूरवीरों की जिस वीर गाथाओं का जिक्र मिलता है, वे अब प्रदेश की सीमाओं में ही न सिमट कर देश-विदेश में फैल गई हैं। कारगिल युद्ध की वीर गाथा भी इस वीरभूमि के जिक्र बिना अधूरी है। सूबे के 75 सैनिकों ने इस युद्ध में देश रक्षा में अपने प्राण न्योछावर किए। ऐसा कोई पदक नहीं, जो सूबे के जाबाजों को न मिला हो। इनकी याद में जहा एक ओर सैकड़ों आखें नम होती हैं, वहीं राज्यवासियों का सीना भी गर्व से चौड़ा हो जाता है। देश की सुरक्षा और सम्मान के लिए देवभूमि के वीर सपूत हमेशा ही आगे रहे हैं। इन युवाओं में सेना में जाने का क्रेज आज भी बरकरार है।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड का 21 साल का वो शहीद जिसकी शहादत की कहानी सबका कलेजा बाहर निकाल देती है

यही कारण है कि आइएमए से पासआउट होने वाला हर 12वां अधिकारी उत्तराखंड से है। वहीं भारतीय सेना का हर पाचवां जवान भी इसी वीरभूमि में जन्मा है। देश में जब भी कोई विपदा आई तो यहा के रणबाकुरे अपने फर्ज से पीछे नहीं हटे। वर्ष 1999 में हुए कारगिल लड़ाई में भारतीय सेना ने पड़ोसी मुल्क की सेना को चारों खाने चित कर विजय हासिल की। कारगिल योद्धाओं की बहादुरी का स्मरण करने व शहीदों को श्रद्धाजलि अर्पित करने के लिए 26 जुलाई को प्रतिवर्ष कारगिल विजय दिवस के रूप में मनाया जाता है। अति दुर्गम घाटियों व पहाड़ियों में देश की आन-बान और शान के लिए भारतीय सेना (वायुसेना समेत) के 526 जवान शहीद हुए थे। इनमें 75 जाबाज अकेले उत्तराखंड से थे। प्रदेश के सर्वाधिक सैनिकों ने कारगिल युद्ध में शहादत दी। एक छोटे राज्य के लिए यह बहुत बड़ी उपलब्धि है। शहादत का यह जच्बा आज भी पहाड़ भुला नहीं पाया है।

यह भी पढ़ें: उत्तराखण्ड: 200 मीटर गहरी खाई में जा गिरी टाटा सुमो, 3 लोगों की मौके पर ही दर्दनाक मौत

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here