Home उत्तराखंड आज उस खिलाडी का जन्मदिन जिससे क्रिकेट ने नहीं बल्कि क्रिकेट ने...

आज उस खिलाडी का जन्मदिन जिससे क्रिकेट ने नहीं बल्कि क्रिकेट ने खुद उससे बहुत कुछ सीखा है

225
0

बात है साल 2004 की जब भारतीय टीम बांग्लादेश के दौरे पर जा रखी थी तब उस सीरीज के दौरान एक नए विकेटकीपर को टीम में शामिल किया गया था, विकेट के पीछे तो वो काफी मुस्तेद नजर आता था पर उसके चलने का तरीका बड़ा अजीब था और वो लम्बे लम्बे बाल भी रखता था जो जेंटलमैन कहे जाने वाले इस खेल में आज तक इससे पहले नहीं देखा गया था और फिर जब इस विकेटकीपर की बारी बल्लेबाजी की आयी तो ये अपने पहले ही मैच में शून्य पर आउट हो गया था और लग रहा था शायद इस दौरे के बाद ये खिलाड़ी कभी भारतीय टीम में देखने को न मिले।

इस श्रृखला के बाद भारतीय टीम का पाकिस्तान दौरा था किस्मत ने एक बार फिर इस विकेटकीपर को टीम इंडिया में मौका दिया, उस मैच में जब ओपनर सचिन तेंदुलकर 26 के कुल योग पर आउट हो गये थे तब सभी भारतीय खेल प्रेमियों को उम्मीद थी कि वनडाउन पर बल्लेबाजी करने कप्तान और दादा कहे जाने वाले सौरव गांगुली आयेंगे पर ये क्या एक नोजवान विकेटकीपर बल्लेबाज भारतीय टीम की ओर से बल्लेबाजी करने आ रहा था सब लोग चौंक गये कि क्यों कप्तान गांगुली ने ये गलत निर्णय लिया पर उस दिन ये खिलाड़ी ऐसा खेला ऐसे चौवे-छक्के लगाये कि  अकेले 148 रन बनाकर वापस लौटा और फिर पाकिस्तानी पारी इस इनिंग के नीच ऐसी तब कि भारतीय टीम ये मैच और  श्रृखला अपने नाम करने में सफल रही।

ये खिलाड़ी कोई और नहीं बल्कि दुनियां का सबसे सफल कप्तान कहे जाने वाले महेंद्र सिंह धोनी था, उस एक इनिंग के बाद महेंद्र सिंह धोनी और या कहैं तो पूरी भारतीय टीम का कायापलट हो चुका था क्यूंकि उसके बाद इस जबरदस्त और जुझारू कप्तान के ही नेत्रिव्त में ही भारत ने 2007 के पहले टी-20 का खिताब अपने नामे किया, फिर साल 2011 में भारतीय टीम 28 साल बाद क्रिकेट विश्व कप जीत सकी, साले 2013 में चेम्पियन ट्रोफी अपने नाम करी, टेस्ट में भी इस खिलाड़ी के नेत्रित्व में भारतीय टीम पहली बार नंबर 1 के पायदान पर पहुँची।

भले ही क्रिकेट ने इस खिलाड़ी को बहुत कुछ दिया हो पर इस खिलाड़ी ने खुद क्रिकेट को उससे ज्यादा दिया है, अपने शानदार नेत्रिव्त के लिए ये खिलाड़ी अन्य कप्तानों से बहुत अलग दिखाई देता है, सारी दुनियाँ के खिलाड़ी इन्ही से सीखते हैं कि कैसे मुश्किल हालातों में भी खुद को शांत और एकाग्र रखना होता है और केसे सही मौके का इन्तेजार करना होता है, आज अगर आईपीएल भी इतना ज्यादा पोपुलर है तो उसमें किसी खिलाड़ी का सबसे ज्यादा योगदान है तो वो है महेंद्र सिंह धोनी का। पूरे भारतीय क्रिकेट प्रेमी जहाँ महेंद्र सिंह धोनी होते हैं उनके पीछे खड़े हो जाते हैं और उन्हें पता होता है जब तक ये खिलाड़ी खेल रहा है तब तक हर मैच में भारतीय टीम की जीत पक्की है आज इसी खिलाड़ी का जन्म दिन है जो उत्तराखंड की इसी पावन धरती पर पैदा हुआ था और जिसने पूरे उत्तराखंड का नाम भी दुनियांभर में ऊँचा किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here