कोरोना वाइरस के वैश्विक संकट की इस घड़ी में अपने अपने गांव वापस लौटे लोगों के लिए भले ही गांव के क्वारेंटाइन सेंटर में रहना अखर रहा हो। कई लोग क्वारेंटाइन सेंटर में सुविधाओं को लेकर आक्रोशित हो परंतु कुछ लोग ऐसे भी हैं जिन्होंने क्वारेंटाइन अवधि में अनुकरणीय कार्य करके एक उदाहरण प्रस्तुत किया है…जी हाँ आज हम बात कर रहें है उत्तराखंड के पौडी गढवाल के खिर्सू ब्लाॅक के असिंगी गांव के प्राथमिक विद्यालय की।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड: गांव आए दो प्रवासी भाइयों ने क्वॉरेंटाइन सेंटर में मचाया कोहराम, जान बचा कर भागे लोग।

विद्यालय असिंगी में सरोज नेगी और उनकी पत्नी कामिनी नेगी व उनके बच्चे 14 दिनों के लिए क्वारेंटाइन हुये हैं। ये परिवार दिल्ली से गांव आया था। यहाँ क्वारेंटाइन होने के बाद उन्होंने देखा की लाॅकडाउन के कारण विगत दो महीने से विद्यालय बंद है जिस कारण से विद्यालय परिसर और विद्यालय के चारों ओर झाडियां उग आई है। विद्यालय की फुलवारी में भी खरपतवार, दूब, घास काफी बढ़ गई है, बिना पानी के फुलवारी के फूलों के पौधे भी सूख रहें हैं। ऐसे में सरोज नेगी और उनकी धर्मपत्नी कामिनी नेगी नें बच्चो के संग क्वारेंटाइन अवधि का सदुपयोग करते हुए विद्यालय की तस्वीर बदल डाली। उन्होंने विद्यालय के चारों ओर की झाडियां काट डाली, प्रांगण में उग आई घास को साफ करके पूरे विद्यालय परिसर की साफ सफाई कर दी और विद्यालय की फुलवारी को सुबह शाम पानी से सींच कर फूलों के पौधों को सूखने से बचाया। इस दौरान इनके छोटे छोटे बच्चे भी काम में इनका हाथ बटा रहें हैं।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड: तीन बच्चों की कब्र के बगल में ही जली मां की चिता, पिता ने खत्म किया पूरा परिवार

राजकीय प्राथमिक विद्यालय असिंगी की अध्यापिका आरती रावत पुंडीर जब अपने विद्यालय में पहुंची तो विद्यालय की तस्वीर को देखकर हतप्रभ हो गयी। उन्होंने सरोज नेगी और उनकी पत्नी कामिनी नेगी की भूरी भूरी प्रशंसा करते हुए कहा की दोनों ने अन्य लोगों के लिए एक उदाहरण प्रस्तुत किया है कि किस तरह से समय का सदुपयोग किया जा सकता है। साथ ही उन्होंने लोगो से अपील भी की है कि ग्राम सभाओं में जो क्वारंटीन हैं वे प्रशासन का सहयोग करें। सोशल डिस्टेंस का पालन करें। घरों से बाहर न निकले। इसमें आपकी भी सुरक्षा है। हमारी भी है और गाॅ॑व वालों की सुरक्षा भी है।

यह भी पढ़ें: 45 साल बाद पहाड़ लौटा 84 साल का दादा, मुश्किल समय में दादी को छोड़कर चले गए थे

 

वास्तव में देखा जाए तो कई लोगों नें क्वारेंटाइन अवधि का सदुपयोग करते हुए अनुकरणीय और प्रेरणादायक कार्य किये हैं कोई क्वारेंटाइन सेंटर में पेंटिंग कर रहा है तो कोई साफ सफाई। ऐसे में सरोज नेगी और उनकी पत्नी कामिनी नेगी का ये प्रयास सराहनीय तो है ही अपितु अनुकरणीय भी है। साथ ही अन्य लोगों के लिए उदाहरण भी प्रस्तुत किया है। कोरोना वाइरस के वैश्विक संकट के इस दौर में हर किसी की जबाबदेही है कि वो कोरोना के संक्रमण को लेकर दूसरों को जागरूक करें, खुद उदाहरण प्रस्तुत करें और जिम्मेदार भी बनें। आपसी सहयोग से ही हम कोरोना को हरा पायेंगे।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड: तीन बच्चों की कब्र के बगल में ही जली मां की चिता, पिता ने खत्म किया पूरा परिवार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here