Home उत्तराखंड बाबा रामदेव का पतंजलि अब कोरोनिल से कोरोना इलाज के दावे से...

बाबा रामदेव का पतंजलि अब कोरोनिल से कोरोना इलाज के दावे से पलटा, कही दी ये बड़ी बात

1
0

कोरोना वायरस के लिए बाबा रामदेव के पतंजलि योगपीठ द्वारा निर्मित कोरोनिल दवाई लॉन्च होते ही विवादों में घिर गई थी। स्वामी रामदेव और आचार्य बालकृष्ण द्वारा दवाई लॉन्च किए जाने के बाद भारत सरकार के आयुष मंत्रालय ने दवाई के प्रचार प्रसार पर रोक लगा दी थी। इसके अगले ही दिन बाबा रामदेव की दवा को एक और झटका लगा जब उत्तराखंड की आयुर्वेद ड्रग्स लाइसेंस अथॉरिटी ने बाबा की दवा पर सवाल उठा दिया था। और अथॉरिटी ने कहा था कि बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि को कोरोना की दवा के लिए नहीं बल्कि इम्युनिटी बूस्टर और खांसी-जुकाम की दवा के लिए लाइसेंस जारी किया गया था। और जिसके बाद उत्तराखंड की आयुर्वेद ड्रग्स लाइसेंस अथॉरिटी ने योगपीठ को नोटिस जारी कर 7 दिन के अन्दर जवाब देने को कहा था।

यह भी पढ़िये: खुशखबरी: चीन को सबक सिखाने मित्र देश फ़्रांस आया आगे, इस दिन मिलेगी राफेल की पहली खेफ

पतंजलि योगपीठ कोरोना वायरस की दवा बनाने के अपने दावे से अब पीछे हट गया है। पतंजलि योगपीठ ने सोमवार को उत्तराखंड आयुष विभाग की ओर से भेजे गए नोटिस का जवाब दिया। आयुष विभाग को भेजे जवाब में पतंजलि अपने पूर्व दावों से पलट गया है। 23 जून को योग गुरु बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण ने कोरोनिल, श्वसारि बटी और अनु तेल से कोरोना के उपचार का दावा किया था। इस पर 24 जून को उत्तराखंड आयुष विभाग ने पतंजलि को नोटिस जारी किया था। लेकिन अब पतंजलि अपने इस दावे से पलट गया है।

यह भी पढ़िये: बड़ी खबर: चारधाम यात्रा एक जुलाई से शुरू करने की तैयारी, क्वारंटाइन में रहे लोगों पर प्रतिबन्ध

उत्तराखंड आयुष विभाग द्वारा भेजे गए नोटिस के जवाब में पतंजलि अपने इस दावे से पलट गया है। बताया जा रहा है कि पतंजलि ने जवाब में ये लिखा कि उसने कभी भी कोरोना के इलाज का दावा नहीं किया। उसने केवल आयुर्वेद औषधि कोरोनिल टेबलेट के कोरोना संक्रमित मरीजों पर क्लीनिकल ट्रायल के परिणामों की जानकारी दी। इस औषधि के उपयोग से कोरोना संक्रमितों पर काफी सकारात्मक असर हुआ था। पतंजलि योगपीठ की दिव्य फार्मेसी की दवा ‘कोरोनिल’ को लेकर उठे विवाद के बीच फिलहाल ‘आर्डर मी’ एप की लांचिंग भी स्थगित कर दी गई है। पहले पतंजलि की ओर से एलान किया गया था कि एप की लांचिंग सोमवार को की जाएगी। इस एप की मदद से देश के किसी भी भाग से दवा का आर्डर बुक किया जा सकता था।

यह भी पढ़िये: उत्तराखंड: सीमा पर संचार सेवा में नेपाल से भी पिछड़े हैं हम, यहाँ होता है नेपाली सिमों का प्रयोग

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here