Home उत्तराखंड कल देहरादून से भी दिखा आसमान में ‘तारों’ की लड़ी का नजारा…...

कल देहरादून से भी दिखा आसमान में ‘तारों’ की लड़ी का नजारा… जानिये आखिर क्या है ये रहस्य

106
0

इन दिनों यूपी से लेकर उत्तराखंड के इलाके में अचानक से रात में एक तारों की लड़ी दिखाई पड़ रही है। तारों की इस लड़ी को देखने के बाद तो कुछ लोग इसे धरती की शक्ति के आसमान में जाने की अनहोनी मान बैठे और रात में अपने छतों पर पूजा करने लगे। वहीं कुछ लोग तो इसे अनजानी शक्ति मानने लगे। लोग यह भी मानते हैं कि दूसरे ग्रहों के जीव यानी एलियंस धरती पर अपने वाहन यानी अनआइडेंटिफाइंग फ्लाइंग ऑब्जेक्ट (UFO) से आते हैं। यूएफओ काफी चमकीली होती है। बल्ब के समान तारों की श्रृंखला सरीखी यह चीज सैटेलाइट थी। यह न तो यूएफओ थी और न ही तारों की रहस्यमयी दुनिया से इनका कोई ताल्लुक था।

दरअसल, दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति एलन मस्क की कंपनी स्पेसएक्स नियमित तौर पर सैटेलाइट लॉन्च करती है। फाल्कन-9 रॉकेट से स्पेसएक्स स्टारलिंक इंटरनेट सैटेलाइट्स को अंतरिक्ष में भेजा जाता है। इन सैटेलाइट्स की संख्या 46 या उससे ज्यादा होती है। यह नजारा स्टारलिंक सैटेलाइट की लॉन्चिंग के एक या दो दिन तक आसमान में देखा जा सकता है। क्योंकि तब सैटेलाइट्स पृथ्वी से ऊपर की ओर अपनी आर्बिट में जा रहे होते हैं, तब सूरज की रोशनी पृथ्वी के दूसरी तरफ से इनपर पड़ती है। इससे ये काफी चमकदार दिखते हैं। हालांकि जब ये सैटेलाइट्स अपनी तय आर्बिट में पहुंच जाते हैं तो वे लोगों को बिना ऑप्टिकल की सहायता से नहीं दिखते हैं यानी ये उस दौरान काफी ऊंचाई पर होते हैं।

स्टारलिंक SpaceX के सैटेलाइट नेटवर्क का नाम है। दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति एलन मस्क इसके मालिक हैं। मस्क ने जनवरी 2015 में स्टारलिंक के जरिए इंटरनेट देने का प्रपोजल लाया था। इस दौरान इसे कोई नाम नहीं दिया गया था। मस्क ने उस वक्त कहा था कि कंपनी ने इंटरनेशनल रेगुलेटर्स से 4000 सैटेलाइट्स को पृथ्वी की आर्बिट में रखने की मंजूरी मांगी है। यूएस फेडरल कम्युनिकेशंस कमिशन यानी FCC ने स्पेसएक्स को 12,000 सैटेलाइट को भेजने की अनुमति दी है। आगे यह संख्या 30,000 तक हो सकती है। 2018 में स्पेसएक्स के दो टेस्ट सैटेलाइट TinTinA और TinTinB लॉन्च किए गए। मिशन सफल रहा। इसके बाद 23 मई 2019 को स्पेसएक्स फाल्कन 9 रॉकेट से पहले 60 स्टारलिंक सैटेलाइट को सफलतापूर्वक लॉन्च किया गया था। तब से स्पेसएक्स एक बार में 46 से 60 स्टारलिंक सैटेलाइट्स को लॉन्च करता रहा है।

मार्च 2022 में स्पेसएक्स ने घोषणा की थी कि उसके 2.50 लाख सब्सक्राइबर हो चुके हैं। मई में यह संख्या 4 लाख पार हुई। एशिया में फिलिपींस इस सुविधा का लाभ ले रहा है। स्टारलिंक इंटरनेट सैटेलाइट 550 से 570 किलोमीटर की ऊंचाई पर उड़ते हैं। रात में सूरज की रोशनी पर ये अलग प्रकार से चमकते हैं और एक साथ कई बल्बों के जलने का अहसास कराते हैं। दिसंबर 2021 में पंजाब के आसमान में भी इसी प्रकार का नजारा देखने को मिला था। इसके बाद इस संबंध में खुलासा हुआ।

राज्य सरकार की उपलब्धियों/योजनाओं/डेंगू से बचाव" वीडियो विज्ञापन



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here