Home क्रिकेट जन्मदिन विशेष- सन 1947 के बाद अगर सबसे अच्छी बात हुई है...

जन्मदिन विशेष- सन 1947 के बाद अगर सबसे अच्छी बात हुई है तो वो ये कि ये सख्स इधर पैदा हुआ उधर नहीं

289
0

आज उस सख्स का जन्म दिन है जिसे पूरा भारत सेलिब्रेट करता है या यूँ कहैं पूरे विश्व के खेलप्रेमी शायद इतनी सी बात कह कर आपको समझ आ गया होगा कि हम यहाँ बात कर रहे हैं सचिन रमेश तेंदुलकर की। जी हाँ आज सचिन का 47 वाँ बर्थडे मनाया जा रहा है भारत में तो सचिन को भगवान का दर्जा मिला हुआ है और पता नहीं पूरे दुनियांभर में कितने खिलाड़ियों के वो रोल मॉडल हैं और सिर्फ खिलाड़ी ही नहीं अपितु सचिन का व्यक्तित्व भी इतना महान है कि उसे एक आम इंसान या खेल से अलग करियर वाले भी अपना रोल मॉडल मानते हैं।

किसी को भी क्रिकेट में उनके द्वारा बनाए गये रिकॉर्ड न मालूम हो ऐसा कहना ही असम्भव है पर फिर भी थोडा सा मोटा मोटा ज्ञान आपको दे देते हैं कि सचिन ने अपने 24 साल के विशाल क्रिकेटिंग करियर में कुल 463 वनडे खेले हैं, जिसमें उन्होंने 18426 रन बनाए हैं जो दुनियां में किसी खिलाडी के द्वारा बनाए गये सबसे ज्यादा रन हैं इसके साथ ही वनडे में उनके नाम सबसे ज्यादा 49 शतक और 96 अर्द्ध शतक हैं। 200 टेस्ट मैचों में सचिन के नाम 15921 रन हैं, जिसमें 51 शतक और 68 अर्धशतक शामिल हैं ये भी किसी खिलाड़ी द्वारा बनाए गये सर्वाधिक रन और शतक हैं। इन सभी रिकॉर्ड को तोड़ पाना अब तक लगभग असम्भव सा लग रहा है क्यूंकि अभी ये रेस इतनी लम्बी है कि जो बाकी खिलाड़ी इस रेस में हैं वो अभी आधा सफ़र भी तय नहीं कर पाये हैं।

सचिन के बारे में जो हमें सबसे प्यारी बात यहाँ लगी है वो ये कि  एक बार क्रिकेट एक्सपर्ट हर्षा भोगले पूर्व क्रिकेटर नवजोत सिद्धू से बात कर रहे थे, तो नवजोत सिद्धू ने सचिन के बारे में ये वाकया कहा था—“भारत सन 1947 में आजाद हुआ था और तब भारत के दो टुकड़े हुए थे हिन्दुस्तान और पाकिस्तान तो साल 1947 के बाद हिन्दुस्तान के लिए अगर सबसे अच्छी बात कोई हुई है तो वो ये कि ये लड़का बॉर्डर के इस तरफ पैदा हुये हैं ना कि उस तरफ”।

सचिन तेंदुलकर वो सख्स हैं जिन्हें देखकर ही पता नहीं कितने ही भारतीय क्रिकेट खिलाड़ियों ने क्रिकेट खेलना शुरू किया होगा और वो आज भारत के लिए खेल रहे हैं, बात अगर 90 और 2000 के दशक की करी जाए तो भारत में टीवी ही इसलिए ऑन की जाती थी कि अभी सचिन तेंदुलकर खेल रहा है और उनके आउट होते ही टीवी ऑफ हो जाती थी, सचिन की अच्छी बल्लेबाजी के लिए लाखों लोग उपवास भी रखते थे शायद आप भी उनमें से एक हों, वो सचिन ही हैं जिनकी वजह से पता नहीं भारत में कितने माँ-बापों ने अपने बेटे का नाम सचिन रखा हुआ है और शायद भारत में अगर सबसे ज्यादा नाम वाले व्यक्तियों की एक लिस्ट बनायी जाए तो ये नाम भी टॉप-5 में होगा।

“जनतक” की पूरी टीम भी क्रिकेट के इस भगवान को उनके बर्थडे पर विश करती है और उम्मीद करती है कि आने वाली पीड़ी भी सचिन से ऐसी ही प्रेरणा लेती रहेगी।