Home उत्तराखंड अब यूकेएसएसएससी व यूकेपीएससी में खुफिया पुलिस, अधिकारियों व कर्मचारियों पर रहेगी...

अब यूकेएसएसएससी व यूकेपीएससी में खुफिया पुलिस, अधिकारियों व कर्मचारियों पर रहेगी नजर



मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह ने कहा कि नकल विरोधी कानून को इतना सख्त बनाया जायेगा कि भविष्य में कोई इस बारे में सोचे भी नहीं। सख्त नकल विरोधी कानून में दोषी का उम्र कैद की सजा का प्राविधान तो होगा ही उसके द्वारा अर्जित संपत्ति को जब्त किये जाने का भी व्यवस्था रहेगी। उन्होंने कहा कि नकल माफियाओं के लगातार सक्रिय रूप से तैनात होने तथा परीक्षा पेपर को लीक आउट कराये जाने से परीक्षा देने वाले अन्य अभ्यर्थी, जो दिन-रात मेहनत करते हैं, उनके भविष्य के साथ खिलवाड़ हो रहा है। इन्ही तथ्यों को ध्यान में रखते हुए अब निर्णय लिया गया है कि उत्तराखण्ड लोक सेवा आयोग, हरिद्वार तथा उत्तराखण्ड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग, देहरादून द्वारा भविष्य में आयोजित होने वाली परीक्षाओं से पूर्व अभिसूचना इकाई को सक्रियता से तैनात किया जाय, ताकि ऐसी पुनरावृत्ति न हों पाये।

इस संबंध में अपर मुख्य सचिव श्रीमती राधा रतूड़ी के स्तर पर आदेश भी निर्गत किये जा चुके हैं। यूकेएसएसएससी व यूकेपीएससी में परीक्षाओं के पेपर लीक होने के बाद दोनों आयोग के अध्यक्ष ने खुफिया पुलिस की तैनाती करने के लिए सरकार व पुलिस विभाग को पत्र लिखा था। शासन के आदेश के बाद अब पुलिस विभाग ने दोनों आयोग में खुफिया पुलिस तैनात कर दी है, जो वहां हर अधिकारी व कर्मचारी की जन्म कुंडली खंगालने में जुट गई है। पुलिस सूत्रों की मानें तो दोनों आयोग के बाहर व अंदर तैनात खुफिया पुलिस पल-पल की रिपोर्ट अपने आलाधिकारियों को दे रही है। पुलिस विभाग आयोग के अंदर दाखिल होने वाले आयोग के अधिकारियों व कर्मचारियों के लिए नए नियम जारी कर सकती है। पेपर लीक प्रकरण में अति गोपनीय विभाग तक अधिकारी व कर्मचारी मोबाइल लेकर चले जाते थे, जिस पर पूरी तरह से रोक लग सकती है।

पटवारी परीक्षा से पहले पेपर कैसे लीक हुआ और अभ्यर्थियों को कैसे पढ़वाया गया, एसआइटी इसका पूरा सीन दोहराएगी। ताकि आरोपितों के खिलाफ ज्यादा से ज्यादा सुबूत हाथ लग सकें और कागजी कार्रवाई मजबूत कर कोर्ट में पेश किया जा सके। रिमांड पर लिए गए आरोपितों को शनिवार से इसके लिए आयोग और उस रिजॉर्ट पर ले जाया जाएगा, जहां पर अभ्यर्थियों को प्रश्न पत्र रटाया गया था। रिमांड पर लिए गए आरोपितों से एसआईटी ने शुक्रवार को लंबी पूछताछ की। काफी सवालों के जवाब एसआइटी का मिल चुके हैं, लेकिन यह जानना जरूरी है कि आरोपितों ने पेपर को लीक किया और कहां पर रुपये लिए। किस स्थान पर अभ्यर्थियों को प्रश्न पत्र पढ़ाया गया। एसआईटी पूरे क्राइम सीन को रीक्रिएट करा रही है। ताकि जांच और आरोप पत्र तैयार करने में मदद मिल सके। सूत्र बताते हैं कि आरोपितों को शनिवार से रिजॉर्ट व अन्य जगहों पर ले जाया जाएगा।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here