Home उत्तराखंड बुद्ध पूर्णिमा: सुबह से हरिद्वार के गंगा घाटों पर स्‍नान जारी, श्रद्धालुओं...

बुद्ध पूर्णिमा: सुबह से हरिद्वार के गंगा घाटों पर स्‍नान जारी, श्रद्धालुओं की भारी भीड़, भारी वाहनों का प्रवेश प्रतिबंधित

77
0

आज बुद्ध पूर्णिमा के मौके पर सोमवार को तीर्थनगरी हरिद्वार में भक्‍तों के स्‍नान करने का सिलसिला जारी है। इस दौरान हरकी पैड़ी पर भक्‍तों की भारी भीड़ नजर आ रही है। श्रद्धालुओं ने हरकी पैड़ी पर ब्रह्म कुंड में आस्था की डुबकी लगाई। सोमवार को तड़के से ही हरिद्वार के विभिन्‍न गंगा घाटों पर स्‍नान और पूजन शुरू हो गया था। श्रद्धालुओं की सुरक्षा के लिए यहां पुलिस बल भी तैनात किया गया है। पुलिस प्रशासन की ओर से आज यानी सोमवार को होने वाले बुद्ध पूर्णिमा स्नान के लिए ट्रैफिक प्लान जारी किया गया है। सुबह छह से रात दस बजे तक जिले में भारी वाहनों के प्रवेश पर रोक रहेगी। पुलिस की ओर से यातायात और पार्किंग के लिए भी प्लान जारी कर दिया गया है।

आज दिल्ली-मेरठ-मुजफ्फरनगर से हरिद्वार आने वाले हल्के वाहन मंगलौर से डायवर्ट कर रुड़की बाइपास होते हुए हरिद्वार भेजे जाएंगे। यमुनानगर-सहारनपुर से हरिद्वार आने वाले हल्के वाहन भगवानपुर से इमलीखेड़ा से बहादराबाद होते हुए हरिद्वार आएंगे। दिल्ली मेरठ की तरफ से आने वाले छोटे वाहनों को लक्सर से होते हुए हरिद्वार भेजा जाएगा। दक्षद्वीप मैदान व बैरागी कैंप पार्किंग से बाहर निकलने वाले वाहन श्रीयंत्र मंदिर के सामने पुल से होते हुए बूढ़ीमाता तिराहे से सिंहद्वार की ओर से बहादराबाद मार्ग को भेजे जाएंगे।

देहरादून से दिल्ली जाने वाले हल्के वाहन डोईवाला होते हुए नेपाली फार्म से डायवर्जन कर आइडीपीएल से बैराज से होते हुए चीला मार्ग से चंडीचौक पहुंचेंगे। रुड़की बाइपास से उन्हें दिल्ली की ओर भेजा जाएगा। देहरादून, ऋषिकेश से नैनीताल व मुरादाबाद की ओर जाने वाली बसें वाया चीला ऋषिकेश मार्ग से संचालित होंगी। पर्वतीय क्षेत्रों से ऋषिकेश के रास्ते दिल्ली व नजीबाबाद जाने वाले वाहनों को मंसा देवी रेलवे ट्रेक से नटराज चौक से बाइपास होते हुए आईडीपीएल गेट से एम्स होते हुए बैराज होते हुए चीला मार्ग से चंडी चौकी से नजीबाबाद और चंडीचौक से एनएच 334 से दिल्ली की ओर जाएंगे।

राज्य सरकार की उपलब्धियों/योजनाओं/डेंगू से बचाव" वीडियो विज्ञापन



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here