Home Uttarakhand उत्तराखंड के मनीष कॉमनवेल्थ में मैडल न जितने से निराश, पर जीता...

उत्तराखंड के मनीष कॉमनवेल्थ में मैडल न जितने से निराश, पर जीता पूरे देश का दिल

194
0

उत्तराखंड के चमोली जिले के सगर गाँव के रहने वाले मनीष रावत आज किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं, वो उत्तराखंड के ऐसे धावक हैं जिन्होंने ओलंपिक खेलों में भी भाग लिया हुआ है, और पिछले कुछ समय पूर्व उन्हें इस उपलब्धि के कारण ही उत्तराखंड पुलिस में सिपाही से इंस्पेक्टर बना दिया गया था, और अब पिछले काफी वक्त से मनीष रावत तैयारी कर रहे थे कॉमनवेल्थ गेम्स में देश को मैडल दिलाने की जिसके लिए उनकी तैयारियां भी इस बार काफी अच्छी चल रही थी।

इस बार भी कॉमनवेल्थ गेम्स में मनीष को मैडल मिलने की उम्मीदों को धक्का लगा है क्यूंकि ऑस्ट्रेलिया के गोल्डकोस्ट में चल गेम्स की 20 किमी रेस वॉकिंग स्पर्धा में छठा स्थान हासिल किया है, मनीष ने इस रेस को पूरा करने के लिए 1 घंटा 22 मिनट 22 सेकेंड का समय लिया, वो इस स्पर्धा में 15 लोगों में 6वें स्थान पर रहे हैं अगर बात करैं नेशनल वॉकिंग चैंपियनशिप की तो दिल्ली में आयोजित इस स्पर्धा में मनीष ने 1 घंटा 21 मिनट में दौड़ पूरी की थी, और उन्हें उम्मीद थी कि अगर यही प्रदर्शन वो  कॉमनवेल्थ गेम्स में भी करैं तो आसानी से मैडल जीत सकते हैं।

इस बार के प्रदर्शन से वो काफी आहत हैं और वो भी तब जब शुरू की 10 किमी रेस में वो पहले स्थान पर थे पर उसके बाद वो पिछड़ते चले गये, पर अब मनीष का कहना है कि वो इस हार से आहत तो जरुर हैं पर अब एशियन गेम्स उनका अगला लक्ष्य है उसके लिए खूब मेहनत करूँगा और देश के लिए मैडल लेकर आऊंगा। इस पूरे माजरे पर मनीष के कोच अनूप बिष्ट का कहना है कि जिस तरह रेस का स्टैंडर्ड था, उसके हिसाब से वो मनीष के प्रदर्शन से बेहद संतुष्ट हैं। आपको बता दें की वैसे भी कॉमनवेल्थ गेम्स में भाग लेने वाले मनीष रावत उत्तराखंड के पहले खिलाड़ी हैं अब भले ही मनीष रावत इस बार मैडल न जीत पाए हों पर उनका प्रदर्शन वाकई शानदार था और अब आगे हम सब लोग भी यही दुआ करते हैं कि मनीष और मेहनत करते जाएँ और एशियन गेम्स में भारत और उत्तराखंड का नाम रोशन करैं।